छत्तीसगढ़बिलासपुररायपुर

रेल्वे सुरक्षा बल एवं दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के संयुक्त सेमीनार मे मानव तस्करी जैसे जघन्य अपराध पर प्रभावी रोक लगाए जाने के उपायों पर आज रायपुर में हुआ आयोजन ।

मानव तस्करी जैसे जघन्य अपराध पर प्रभावी रोक लगाए जाने के उपायों पर आज रायपुर में सेमीनार का आयोजन ।

बिलासपुर – 13 अप्रैल’ 2022 श्री अमिय नंदन सिन्हा, महानिरीक्षक- सह-प्रधान मुख्य सुरक्षा आयुक्त, रेलवे सुरक्षा बल, दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे बिलासपुर की अध्यक्षता में डॉक्टर नेहा सिंह, यूनिसेफ, किशोर अधिकारिता पर राज्य सलाहकार रायपुर और अवैध व्यापार, बाल विवाह की रोकथाम, डॉक्टर प्रमिला सिंह पूर्व प्रोफेसर मनोविज्ञान पंडित रविशंकर विश्व विद्यालय रायपुर एवं श्री भूपेन्द्र नायक सहायक श्रम अधिकारी रायपुर की उपस्थिति में आज दिनांक 13 अप्रैल’ 2022 को मानव तस्करी जैसे जघन्य अपराध को रेलवे के माध्यम से किए जाने पर प्रभावी रोक लगाए जाने के उपायों पर उल्लास अधिकारी क्लब, डब्ल्यू.आर.एस. कालोनी रायपुर में सेमीनार का आयोजन किया गया ।
इस सेमीनार मे श्री संजय कुमार गुप्ता मंडल सुरक्षा आयुक्त रायपुर, श्री रूपवंत तिर्की सहायक सुरक्षा आयुक्त मुख्यालय बिलासपुर, श्री विवेक शर्मा सहायक सुरक्षा आयुक्त बिलासपुर, श्री सुनील चांटे सहायक सुरक्षा आयुक्त रायपुर, श्री एस.डी.देशपांडे सहायक सुरक्षा आयुक्त नागपुर, राज्य रेल पुलिस के डिप्टी एसपी की भी गरिमामयी उपस्थिति रही ।
सेमीनार मे वक्ताओं ने बताया कि मानव तस्करी विश्व मे एक गंभीर व संवेदनशील सामाजिक समस्या बनकर उभर रही है । मादक पदार्थों व हथियारों की तस्करी के बाद मानव तस्करी दुनिया मे सबसे बड़ा संगठित अपराध है । किसी व्यक्ति को बल प्रयोग कर, डराकर, धोखा देकर हिंसक तरीकों से किसी संगठन मे भर्ती करना या बंधक बना कर रखना तस्करी के अंतर्गत आता है । सभ्य सामाज में मानव होकर मानव की तस्करी/मानव का अवैध व्यापार चाहे वो जिस भी रूप में हो, जिसके लिए भी हो बहुत बड़ा कलंक है, एक सामाजिक बुराई है तथा अपराध है । वक्ताओं द्वारा फील्ड के बल अधिकारियों व बल सदस्यों को रेलवे के माध्यम से मानव तस्करी की रोकथाम के उपाय के संबंध में महत्वपूर्ण एवं उपयोगी जानकारी/दिशा-निर्देश दिया गया ।
सेमीनार में तीनों मंडलों के AAHT (Action Against Human Trafficking) हेतु नामित बल अधिकारियों व बल सदस्य तथा शासकीय रेल पुलिस (रेलवे सुरक्षा बल के कुल 100 एवं शासकीय रेल पुलिस के कुल 10) उपस्थित थे ।
अंत में ऐसे अपराध की रोकथाम हेतु हम रेलवे सुरक्षा बल परिवार, रेलवे सुरक्षा बल के निर्धारित मूल कर्तव्यों का पालन करते हुए रेलों के माध्यम से मानव तस्करी की रोकथाम करने का प्रयास करेंगे के संबोधन के साथ मानव तस्करी के संबंध में आयोजित सेमीनार का समापन किया गया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.